Saturday, 17 August 2013

"मां"


मां...!!!
                                    ...................शिशिर कृष्ण शर्मा
मां, मां !!!

नैनों की, ज्योति सा ! सीपी में बंद मोती सा !!
सप्तसुरों की गीति सा ! जीवन की इक रीति सा !!
सीने से लिपटा हूं तेरे आंचल में सिमटा हूं मैं.....मां, मां !!!

हिचकता सा, झिझकता सा ! ठहरता और ठिठकता सा !!
जब भी डगमगाया मैं ! चला ज्यौं लड़खड़ाया मैं !!
नग्नपग तू, राहें तप्त, तूने अंक भरा मुझे....मां, मां !!!

संबल तू अवलंबन तू ! मातृशक्ति का वंदन तू !!
जीवनदायिनी शक्तिस्वरूपा ! ममतामयी तू वत्सलरूपा !!
सृष्टिकेन्द्र चरणों में तेरे शत-सहस्र नमन है मेरा.....मां, मां !!!

मां, मां !!!
…………………………………………शिशिर कृष्ण शर्मा

3 comments:

  1. padhte padhte man bheeng gaya shishir ji...
    saadhuvaad !!!

    ReplyDelete
  2. बहोत सुन्दर कविता शिशिर जी !!

    ReplyDelete